अंदर से बाहर

राजकुमारी महल में अति शोभायमान है, उसके वस्त्र में सुनहले बूटे कढ़े हुए हैं। (भजन संहिता 45:13)

क्रिसमस के समय के दौरान, किराने की दुकान की खिड़कियां अक्सर उज्ज्वल, चमकदार उपहारों से सजी होती हैं। ये उपहार आकर्षक लग सकते हैं, लेकिन अगर हम उन्हें खोलें, तो हमें अंदर कुछ भी नहीं मिलेगा। वे खाली हैं, बस “दिखाने के लिए” हैं। हमारा जीवन उसी तरह हो सकता है, खूबसूरती से लिपटे हुए पैकेज जिनके अंदर कुछ भी नहीं है। बाहर की तरफ, हमारा जीवन दूसरों के लिए आकर्षक या यहां तक कि देखने योग्य हो सकता है, लेकिन अंदर से हम सूखे और खाली हो सकते हैं। हम बाहर से आत्मिक दिख सकते हैं, लेकिन अंदर से शक्तिहीन हो सकते हैं, अगर हम पवित्र आत्मा को अपने दिल में उसका घर बनाने की अनुमति नहीं देते हैं।

आज का पद आंतरिक जीवन के महत्व पर जोर देता है। परमेश्वर हमारे अंदर पवित्र आत्मा को हमारे आंतरिक जीवन पर काम करने के लिए देते हैं – हमारे दृष्टिकोण, हमारी प्रतिक्रियाओं, हमारी प्रेरणाओं, हमारी प्राथमिकताओं और अन्य महत्वपूर्ण चीजों पर काम करने के लिए। जब हम अपने आप के सबसे भीतरी हिस्सों को मसीह के प्रभुत्व में देते हैं, तब हमें समझ में आएगा जब वह हमसे बोल रहा है, और हम उसकी धार्मिकता, शांति और आनंद का अनुभव करेंगे, जो हमें बहुतायत के जीवन के लिए सशक्त बनाने के लिए हमारे भीतर से आएंगी (रोमियों 14:17 देखें)।

पवित्र आत्मा हमें अधिक से अधिक मसीह के समान बनाने के लिए और उसकी उपस्थिति और मार्गदर्शन के साथ हमें भरने के लिए हमारे अंदर रहता है, ताकि हमारे पास दूसरों के साथ साझा करने के लिए कुछ हो, कुछ ऐसा जो हमारे अस्तित्व के मूल से आता है और मूल्यवान, सामर्थी और जीवन देने वाला हो, उन सभी के साथ जिनके साथ हम बातचीत करते हैं।

_______________

आज आप के लिए परमेश्वर का वचनः

अपने बाहरी जीवन से अधिक अपने आंतरिक जीवन पर ध्यान दें।

Facebook icon Twitter icon Instagram icon Pinterest icon Google+ icon YouTube icon LinkedIn icon Contact icon