अपनी आत्मा के माध्यम से सुनें

हवा जिधर चाहती है उधर चलती है, और तू उसका शब्द सुनता है, परन्तु नहीं जानता, कि वह कहां से आती और किधर को जाती है? जो कोई आत्मा से जन्मा है वह ऐसा ही है। (यूहन्ना 3:8)

जब हम नया जन्म प्राप्त करते हैं, तो हम अपनी आत्माओं में जीवित हो जाते हैं और हम परमेश्वर की आवाज के प्रति संवेदनशील हो जाते हैं। हम उसकी कोमल आवाज सुनते हैं, भले ही हम यह ना बता पाए कि आवाज कहाँ से आ रही है। वह हमारे दिलों में एक कोमल आवाज के माध्यम से धीरे से बोलता है ताकि हमें दोषी ठहराए, हमें सुधारे और हमें निर्देशित करें।

हम अपने मुंह, चेहरे के भाव, हाव-भाव और हर तरह के शारीरिक हाव – भाव का इस्तेमाल कर इंसानों से संवाद कर सकते हैं, लेकिन जब हम परमेश्वर से संवाद करना चाहते हैं, तो हमें अपनी आत्माओं के माध्यम से ऐसा करना पड़ता है।

परमेश्वर हमारे आंतरिक भागों से प्रत्यक्ष संवाद के माध्यम से, अंर्तज्ञान के माध्यम से (बताई नहीं जा सकने वाली समझ की भावना), और हमारे विवेक के माध्यम से (सही और गलत के हमारे मूल दृढ़ विश्वास), और शांति के माध्यम से बात करते है। हमारी आत्माएं उन चीजों को जान सकती हैं जिन्हें हमारे प्राकृतिक दिमाग समझ नहीं पाते और पकड़ नहीं पाते हैं।

उदाहरण के लिए, जब हम परमेश्वर की आवाज के प्रति संवेदनशील होते हैं, तो हम ऐसी स्थिति को देख सकते हैं जो सही प्रतीत होती है, लेकिन हम अंर्तज्ञान के माध्यम से जानते हैं कि इसके बारे में कुछ गलत है। हमारी आत्माओं में “सही का निशान” का उद्देश्य है कि हमें किसी ऐसे व्यक्ति के साथ शामिल होने से रोकें जिसे हमें संरेखित नहीं होना चाहिए, या हमें उस चीज में शामिल होने से रोकने के लिए जिसमें हमें भाग नहीं लेना चाहिए।

उन चीजों पर ध्यान दें जो आप अपने दिल और अपनी आत्मा में महसूस करते हैं, क्योंकि यही वह जगह है जहाँ परमेश्वर आपसे दिशा, प्रोत्साहन, चेतावनी और आराम के बारे में बातें करेंगे।

_______________

आज आप के लिए परमेश्वर का वचनः

अपनी आत्मा में “सही के निशान” पर ध्यान दें।

Facebook icon Twitter icon Instagram icon Pinterest icon Google+ icon YouTube icon LinkedIn icon Contact icon