क्या आप वास्तव में परमेश्वर पर भरोसा कर रहे हैं?

सो हे मेरे प्रिय भाइयो, दृढ़ और अटल रहो। (1 कुरिन्थियों 15:58)

दृढ़ रहने की क्षमता प्रभु में विश्वास को इंगित करती है। इसके बारे में सोचें: अगर मैं कहूं, “मैं परमेश्वर पर भरोसा करती हूं,” लेकिन फिर मैं चिंतित और परेशान रहती हूं, तो मैं वास्तव में परमेश्वर पर भरोसा नहीं कर रही हूं। अगर मैं कहूं, “मैं परमेश्वर पर भरोसा करती हूं,” लेकिन मैं अवसाद और निराशा में डूबी रहती हूं, तो मैं वास्तव में परमेश्वर पर भरोसा नहीं कर रही हूं। अगर मैं कहती हूं कि मैं परमेश्वर पर भरोसा करती हूं और चिंता करती हूं या अपना आनंद खोती हूं, तो मैं वास्तव में परमेश्वर पर भरोसा नहीं कर रही हूं। जब हम वास्तव में परमेश्वर पर भरोसा करते हैं, तो हम उसके विश्राम में प्रवेश करने में सक्षम होते हैं और हमारे दिलों को उसके लिए अटल विश्वास की जगह बनाने की अनुमति देते हैं। दुश्मन पूरी तरह से दूर नहीं जाएगा, लेकिन वह हमारे लिए एक बड़ी समस्या की तुलना में अधिक बाधा बन जाएगा।

जब तक हम पृथ्वी पर हैं, और हम परमेश्वर से प्रेम करने और उसकी सेवा करने की पूरी कोशिश कर रहे हैं, दुश्मन हमारे चारों ओर मौजूद रहेगा। हमारे आत्मिक विकास के लिए परमेश्वर के डिजाइन के एक हिस्से में आत्मिक मांसपेशियों को विकसित करना शामिल है क्योंकि हम दुश्मन का विरोध करना सीखते हैं। प्रेरित पौलुस ने इसे अच्छी तरह से समझा, इसलिए उसने यह प्रार्थना नहीं की कि लोगों को कभी परेशानी न हो; उसने प्रार्थना की कि उनके पास दृढ़ता हों और वे स्थिर और अचल हों; और वास्तव में वह परमेश्वर पर भरोसा करें। परमेश्वर चाहते हैं कि आप उसके विश्राम में प्रवेश करें और वह आपकी ओर से काम करेंगे।

_______________

आज आप के लिए परमेश्वर का वचनः

वास्तव में परमेश्वर पर भरोसा करें।

Facebook icon Twitter icon Instagram icon Pinterest icon Google+ icon YouTube icon LinkedIn icon Contact icon