तुलना में, यह कुछ भी नहीं है

क्योंकि मैं समझता हूं, कि इस समय के दुःख और क्लेश उस महिमा के सामने, जो हम पर प्रगट होने वाली है, कुछ भी नहीं हैं। (रोमियों 8:18)

मसीह के दुख को साझा करने का क्या मतलब है? तात्पर्य यह है कि किसी भी समय जब हमारा शरीर एक काम करना चाहता है और परमेश्वर का आत्मा हमें कुछ और कराना चाहता है, यदि हम आत्मा के पीछे चलने का विकल्प चुनते हैं तो हमारा शरीर पीड़ित होगा। हमें यह पसंद नहीं है, लेकिन आज का पद कहता है कि यदि हम मसीह की महिमा को साझा करना चाहते हैं, तो हमें उनकी पीड़ा को साझा करने के लिए भी तैयार रहना चाहिए।

मैं अब भी परमेश्वर के आत्मा की आज्ञाकारिता में चलने के अपने शुरुआती वर्षों के दौरान जो पीड़ा का अनुभव कर रही थी, उसे याद कर सकती हूं। मैं सोचती थी, हे परमेश्वर, क्या मैं इससे उबर पाऊंगी? क्या मैं कभी वहां तक पहुँच पाऊँगी जहाँ मैं आपकी बात मान सकती हूं और मैं आहत नहीं होती हूं?

एक बार जब शरीर की भूख नियंत्रण में नहीं रह जाती, तो हम उस बिंदु पर पहुंच जाते हैं जहां परमेश्वर का आज्ञापालन आसान होता है, वह बिंदु जहां हम वास्तव में उसका पालन करने का आनंद लेते हैं। ऐसी चीजें हैं जो अब मेरे लिए आसान हैं, जो कभी बहुत कठिन और दर्दनाक थीं, और यही बात हर किसी के लिए होती है जो महिमा को पाने के लिए कठिनाइयों से गुजरना चाहते हैं।

रोमियों 8:18, में, पौलुस ने मूल रूप से यह कहा कि, “हमें अभी थोड़ी पीड़ा होती हैं, तों क्या? वह महिमा जो हमारे आज्ञाकारिता से आएगी, हम अभी जो कष्ट सह रहें हैं, उससे कहीं अधिक है।” ये अच्छी खबर है! हम जो कुछ भी भुगत रहें हैं, जो कुछ भी हम कर रहें हैं, वह उन सभी चीजों की तुलना में कुछ भी नहीं है जो परमेश्वर हमारे जीवन में करने जा रहे हैं, जब हम उनके साथ आगे बढ़ना जारी रखेंगे।

_______________

आज आप के लिए परमेश्वर का वचनः

जब आप उसके साथ आगे बढ़ना जारी रखेंगे, तो परमेश्वर आपके जीवन में महान कार्य करेंगे।

Facebook icon Twitter icon Instagram icon Pinterest icon Google+ icon YouTube icon LinkedIn icon Contact icon