परमेश्वर कई तरहों से बात करते हैं

यह मैं ही हूं, जो धर्म से बोलता। (यशायाह 63:1)

आज के लिए गए वचन में, परमेश्वर घोषणा करते हैं कि वह बोलते हैं, और जब वह बोलते है, तो वह धार्मिकता से बोलतें है। हम हमेशा उस पर निर्भर रह सकते हैं कि जो वह कहते है वह सही है। परमेश्वर हमसे कई तरहों से बात करते हैं, जिसमें शामिल हैं लेकिन सीमित नहींरू उनका वचन, स्वभाव, लोग, परिस्थितियां, शांति, ज्ञान, अलौकिक हस्तक्षेप, सपने, दर्शन, और कुछ ऐसा जिसे “आंतरिक गवाही” कहा जाता है, जो है हमारे दिलों के अंदर की गहराई जिसे “ज्ञान” के रूप में वर्णित किया जाता है। बाइबल में कहा गया है कि वह “शांत, नरम आवाज” के माध्यम से भी बोलता है, जो मेरा मानना ​​है कि आंतरिक गवाही को भी संदर्भित करता है।

परमेश्वर भी विवेक के माध्यम से, हमारी इच्छाओं के माध्यम से और एक श्रव्य आवाज में बोलता है, लेकिन हमेशा याद रखें कि जब वह बोलता है, तो वह जो कहता है वह हमेशा सही होता है और यह उसके लिखित वचन से कभी असहमत नहीं होता है। हम शायद ही कभी परमेश्वर की श्रव्य आवाज सुनते हैं, हालांकि ऐसा होता है। मैंने अपने जीवन के दौरान तीन या चार बार उनकी श्रव्य आवाज सुनी है। इनमें से दो मौकों पर, मैं सो रही थी और उनकी आवाज ने मेरा नाम पुकारा। मैंने सुना था, “जॉयस”, मुझे पता था कि परमेश्वर बोल रहे थे। उसने यह नहीं कहा कि वह क्या चाहता है, लेकिन मैं सहज रूप से जानती थी कि वह मुझे उसके लिए कुछ विशेष करने के लिए बुला रहें हैं, हालांकि कई वर्षों तक उस क्षेत्र में स्पष्टता नहीं आई थी।

मैं आपको प्रोत्साहित करना चाहती हूं कि आप किसी भी तरह से उसकी आवाज सुनने में मदद करने के लिए परमेश्वर से प्रार्थना करें। वह आपसे प्यार करता है; उसके पास आपके जीवन के लिए अच्छी योजनाएँ हैं; और वह आपसे इन चीजों के बारे में बात करना चाहता है।

_______________

आपके लिए आज का परमेश्वर का वचन:

परमेश्वर कई मायनों में बोलता हैं; बस हम याद रखें कि – वह कभी भी बाइबल का खंडन नहीं करेगा।

Facebook icon Twitter icon Instagram icon Pinterest icon Google+ icon YouTube icon LinkedIn icon Contact icon