विश्वास से भरा रवैया

विश्वास से भरा रवैया

पर यहोवा यूसुफ के संग संग रहा और उस पर करुणा की, और बन्दीगृह के दारोगा के अनुग्रह की दृष्‍टि उस पर हुई। उत्पत्ति 39:21

हालांकि यूसुफ पर गलत इल्जाम लगाकर उसे दंडित किया गया था, उसे उस चीज़ के लिए जेल में डाल दिया गया था जो उसने नहीं की थी, फिर भी प्रभु उसके साथ था, उसे अलौकिक अनुग्रह देते हुए और उसका ख्याल रखते हुए। उसने साबित कर दिया कि कोई व्यक्ति वास्तव में बहुत बुरी स्थिति में नहीं होता है, चाहे वह जेल में होते हुए भी परमेश्वर का अनुग्रह उस पर बना रहता है।

चाहे हमारे जीवन में कुछ भी क्यों न हो, तौभी हम परमेश्वर और अन्य लोगों का अनुग्रह प्राप्त कर सकते हैं (लूका 2:52)। लेकिन जीवन में की बहुत सी अच्छी चीजों की तरह ही, सिर्फ इसलिए कि हमारे लिए कुछ उपलब्ध है इसका मतलब यह नहीं है कि हम इसमें भाग लेंगे। प्रभु हमें बहुत सी चीजें उपलब्ध कराता है जिन्हें हम कभी प्राप्त नहीं करते और उनका आनंद नहीं लेते क्योंकि हम हमारे विश्वास को कभी सक्रिय नहीं करते हैं।

उदाहरण के लिए, यदि हम डर और असफलता के बारे में सोचते हुए नौकरी के लिए इंटरव्यू देने जाते हैं, तो हम लगभग आश्वस्त हो जाएंगे कि हमें नौकरी नहीं मिलेगी। दूसरी ओर, भले ही हम उस नौकरी के लिए आवेदन देते हैं जिसके लिए हम जानते हैं कि हम पूरी तरह से योग्य नहीं हैं, फिर भी हम आत्मविश्वास से भरकर जाते हैं, यह विश्वास करते हुए कि परमेश्वर हमें हर परिस्थिति में अनुग्रह देगा जो कि उसकी इच्छा है।

परमेश्वर नहीं चाहता कि हम जीवन में आने वाली कठिनाइयों से डरें। वह नियंत्रण रख रहा है, और अगर हम उससे प्रेम रखते हैं और उस पर भरोसा करते हैं तो वह सारी बातों में से हमारी भलाई ही उत्पन्न करेगा।


यूसुफ ने बुरी स्थिति में भी अच्छा रवैया बनाए रखा। उसके अंदर “विश्‍वास से भरा रवैया” था, और परमेश्वर ने उस पर अनुग्रह किया।

Facebook icon Twitter icon Instagram icon Pinterest icon Google+ icon YouTube icon LinkedIn icon Contact icon