डरते हुए ही बातों को पूरा करो

डरते हुए ही बातों को पूरा करो

यहोवा ने [हारान में] अब्राम से कहा, “अपने देश, और अपने कुटुम्बियों, और अपने पिता के घर को छोड़कर उस देश में चला जा जो मैं तुझे दिखाऊँगा।” उत्पत्ति 12:1

आपको कैसा लगेगा यदि परमेश्वर ने आपसे कहा कि आप आपका घर, आपका परिवार, और आपके लिए परिचित और आरामदायक हर चीज को छोड़ दें और वहां जाएं जिस स्थान का कोई पता नहीं है? क्या आपको डर लगेगा? ठीक यही वह चुनौती थी जिसका अब्राम ने सामना किया, और इसने उसे डरा दिया। इसलिए परमेश्वर उससे बार-बार कहता रहा, “मत डर।”

एलिज़ाबेथ इलियट, जिनके पति इक्वाडोर में चार अन्य मिशनरियों के साथ मारे गए थे, बताती है कि कैसे उनका जीवन पूरी तरह से डर द्वारा नियंत्रित था। हर बार जब वह बाहर निकलने लगी, तब डर ने उन्हें रोक दिया, जब तक कि एक मित्र ने उन्हें कुछ ऐसा नहीं बताया जिसके द्वारा वह डर मुक्त हो गयी। उन्होंने कहा, “आप डरते हुए ही बातों को पूरा क्यों नहीं करते?” एलिज़ाबेथ इलियट और रेचल सेंट, मारे गए मिशनरियों में से एक की बहन, भारतीय कबीलों में प्रचार करने के लिए चली गयी, जिनमें वे लोग भी शामिल थे जिन्होंने उनके पति और भाई को मार डाला था।

यदि हम कुछ करने के लिए तब तक प्रतीक्षा करते हैं जब तक कि हम भयभीत न हों, तो शायद हम परमेश्वर के लिए, दूसरों के लिए, या स्वयं के लिए भी बहुत कम कार्य कर पाएंगे। अब्राम और यहोशू दोनों को विश्वास और आज्ञाकारिता में परमेश्वर की आज्ञा का पालन करने के लिए आगे बढ़ना पड़ा, जबकि उन्होंने डर महसूस किया था। हम वही समान बात कर सकते हैं!


ठान लें कि आपका जीवन डर से नहीं बल्कि परमेश्वर के वचन से भरा हुआ हो।

Facebook icon Twitter icon Instagram icon Pinterest icon Google+ icon YouTube icon LinkedIn icon Contact icon