सकारात्मक बने रहने का सामर्थ्य

सकारात्मक बने रहने का सामर्थ्य

क्योंकि जैसा वह अपने मन में विचार करता है, वैसा वह आप है। नीतिवचन 23:7

कई साल पहले, मैं बेहद नकारात्मक व्यक्ति थी। मेरी पूरी धारणा यह थी कि: “यदि आप कुछ भी अच्छा होने की उम्मीद नहीं रखते हैं, फिर जब आपकी उम्मीद के अनुसार बातें नहीं होती तब आप निराश नहीं होंगे।” बीतें वर्षों में मेरे साथ बहुत सारी विनाशकारी चीजें हुई थीं, इसलिए मैं यह विश्वास रखने से डरती थी कि मेरे साथ कुछ अच्छा भी हो सकता है। चूंकि मेरे विचार पूरी तरह से नकारात्मक थे, इसलिए मेरा मुंह भी वैसा ही था; और मेरा जीवन भी वैसा ही था।

शायद आप वैसे ही है जैसे मैं थी। आप अपने आप को दुःखी होने से बचाने के लिए आशा से दूरी बनाए रहते हैं। इस प्रकार का व्यवहार एक नकारात्मक जीवन शैली को स्थापित करता है। सब कुछ नकारात्मक हो जाता है क्योंकि आपके विचार नकारात्मक हैं।
जब मैंने वास्तव में वचन का अध्ययन करना और मुझे पुनर्स्थापित करने के लिए परमेश्वर पर भरोसा करना शुरू किया, तब पहली चीज़ जो मैंने महसूस की, वह यह थी कि नकारात्मकता को छोड़ देना होगा। और जितना अधिक मैं परमेश्वर की सेवा करती हूं, उतना ही अधिक मुझे मेरे विचारों और शब्दों में सकारात्मक रहने की जबरदस्त सामर्थ्य का एहसास होता है।

हमारे कार्य हमारे विचारों के प्रत्यक्ष परिणाम हैं। एक नकारात्मक मन का परिणाम नकारात्मक जीवन ही होगा। परन्तु यदि हम हमारे मन को परमेश्वर के वचन के अनुसार नवीनीकृत करेंगे, तो हम रोमियों 12:2 की प्रतिज्ञाओं के अनुसार, “परमेश्‍वर की भली, और भावती, और सिद्ध इच्छा” हमारे अनुभव से प्रकट करेंगे।

यह हमारे विचारों को परमेश्वर के विचारों के अनुरूप बनाने के लिए एक जीवन बदलने वाला अभ्यास है।

Facebook icon Twitter icon Instagram icon Pinterest icon Google+ icon YouTube icon LinkedIn icon Contact icon