परमेश्वर के सामने विनम्रता

परमेश्वर के सामने विनम्रता

जो कोई अपने आप को बड़ा बनाएगा, वह छोटा किया जाएगा; और जो अपने आप को छोटा बनाएगा, वह बड़ा किया जाएगा। (लूका 18:14)

लूका 18:10-11 में, हमने दो आदमियों के बारे में पढ़ा, जो प्रार्थना करने के लिए मंदिर  गए थे। एक फरीसी था और दूसरा एक चुंगी लेनेवाला था। यीशु ने कहा, “फरीसी खड़ा हुआ और इस तरह और अपने मन में यों प्रार्थना करने लगाः परमेश्वर, मैं आपको धन्यवाद देता हूं कि मैं और मनुष्यों की नाईं नहीं हूं – जबरन वसूली करने वाले (लुटेरे), ठग [दिल और जीवन में अधर्मी], व्यभिचारी – इस चुंगी लेने वाले की तरह नहीं।” फिर वह अपने सभी अच्छे कामों की सूची के बारे में बात करने लगा।

इस पद के बारे में मुझे जो पसंद, वो यह है कि बाइबल यह नहीं कहती कि फरीसी परमेश्वर से प्रार्थना कर रहा था। बाइबल कहती है कि वह प्रार्थना करने के लिए मंदिर में गया था, लेकिन उसने प्रार्थना की “इस प्रकार से और अपने मन में।” यहाँ हम एक ऐसे व्यक्ति के बारे में पढ़ते हैं जो प्रार्थना करता हुआ दिखाई देता है, और फिर भी बाइबल कहती है कि वह परमेश्वर से बात भी नहीं कर रहा था; वह खुद से बात कर रहा था! मुझे लगता है कि कभी-कभी हम लोगों को प्रभावित करने के लिए प्रार्थना करते हैं, शायद खुद को प्रभावित करने के लिए भी। चलिए हम ईमानदारी से कहें: हम अपने स्वयं के प्रभाव से प्रभावित हो सकते हैं। जब हम परमेश्वर से बात कर रहे हैं और किसी और के साथ या लोगों के समूह के साथ परमेश्वर से सुनने की कोशिश कर रहे हैं, तो हमें बहुत सावधान रहना होगा कि हम दूसरे लोगों को उपदेश तो नहीं दे रहे हैं, और हम अत्यधिक आत्मिक होने की कोशिश तो नहीं कर रहे हैं; लेकिन हम वास्तव में परमेश्वर के साथ अपने दिलों को साझा कर रहे हैं। एक वाचा अविश्वसनीय रूप से शक्तिशाली होती है, लेकिन इसे शुद्ध होना होगा, और इसे विनम्रता के स्थान से आना होगा।

आज आप के लिए परमेश्वर का वचनः

परमेश्वर आपके द्वारा किए गए सभी अच्छे कार्यों को गुप्त रूप से देखता है और वह आपको पुरस्कृत करेगा।

Facebook icon Twitter icon Instagram icon Pinterest icon Google+ icon YouTube icon LinkedIn icon Contact icon