मसीह के तरह समान

मसीह के तरह समान

क्योंकि जिन्हें उसने पहले से जान लिया है [जिनके बारे में वह पहले से जानता था और उन्हें प्रेम करता था] उन्हें पहले से [उन्हें पूर्वनिर्धारित] ठहराया भी है कि उसके पुत्र के स्वरूप में हों [और उसकी समानता को साझा करने के लिए], ताकि वह बहुत भाइयों में पहिलौठा ठहरे। —रोमियों 8:29

एक मसीही विश्‍वासी का सबसे अच्छा लक्ष्य मसीह के समान बनना है। पिता का व्यक्त स्वरूप यीशु है, और हमें उसके पदचिन्हों पर चलने के लिए बुलाया गया है। वह हमारे विश्वास के अग्रणी के रूप में आया और हमें उदाहरण के द्वारा दिखाया कि हमें कैसे जीवन जीना हैं। हमारे पास लोगों के साथ वैसा ही व्यवहार करने का मौका है जैसा यीशु ने किया था। हमारा लक्ष्य यह देखना नहीं है कि हम व्यवसाय में कितने सफल हो सकते हैं या हम कितने प्रसिद्ध हो सकते हैं। यह समृद्धि, लोकप्रियता या यहां तक कि एक बड़ी सेवकाई का निर्माण नहीं है, बल्कि यीशु मसीह के स्वरूप में परिवर्तित होना है।

आत्मिक परिपक्वता या मसीह के तरह की समानता “स्वयं के प्रति मरने” के बिना प्राप्त नहीं की जा सकती है। इसका सीधा सा मतलब है कि जब हमारी इच्छा और परमेश्वर की इच्छा विरोध में हो तो परमेश्वर को हां और खुद को ना कहना है। यीशु ने उसके चेलों से कहा कि यदि वे उसका अनुसरण करना चाहते हैं, तो उन्हें प्रतिदिन अपना क्रूस उठाना पड़ेगा।

मसीह का अनुसरण करने और उसके जैसा बनने के लिए, हम जो चाहते हैं उसे हम भूल जाना चुनते हैं – हमारी योजनाएं, हमारे अपने तरीके हैं – और इसके बजाय उसकी इच्छा हमारे लिए क्या है यह दर्शाने के लिए हम उस पर भरोसा करते हैं। उसकी इच्छा हमेशा गहरे आनंद और संतुष्टि की ओर ले जाती है।

आप परमेश्वर के राजदूत हैं—उसका अच्छी तरह से प्रतिनिधित्व करें!

Facebook icon Twitter icon Instagram icon Pinterest icon Google+ icon YouTube icon LinkedIn icon Contact icon