विलाप आन्नद में बदल गया

विलाप आन्नद में बदल गया

“धन्य हैं वे, जो शोक करते हैं, क्योंकि वे शांति पाएँगे।” मत्ती 5:4

बाइबल उन लोगों के विषय में बहुत सारे संदर्भ देती है जो विलाप करते हैं।

यिर्मयाह 31:13 में, प्रभु भविष्यवक्ता के द्वारा कहता है, “उस समय उनकी कुमारीयाँ नाचती हुई हर्ष करेंगी, और जवान और बूढ़े एक संग आन्नद करेंगे। क्योंकि मैं उनके शोक को दूर करके उन्हें आनन्दित करूँगा, मैं उन्हें शान्ति दूँगा, और दुःख के बदले आनन्द दूँगा।”

इस पद में हम देखतें हैं कि यह परमेश्वर की इच्छा है कि विलाप करने वालों को सांत्वना दी जाए; इसलिए, हम निर्णय कर सकते हैं कि विलाप के पश्चात सांत्वना आनी चाहिए। यदि विलाप कभी भी नहीं आता हैं, तो कुछ गलत है।

 

यशायाह 61:1-3 में, हम निश्चयता के इन शब्दो को पढ़ते हैः

प्रभु यहोवा का आत्मा मुझ पर है; क्योंकि यहोवा ने सुसमाचार सुनाने के लिये मेरा अभिषेक किया और मुझे इसलिये भेजा है कि खेदित मन के लोगों को शान्ति दूँ; कि बन्धुओं के लिए स्वतंत्रता का और कैदियों के लिए छुटकारे का प्रचार करूँ।

कि यहोवा के प्रसन्न रहने के वर्ष का और हमारे परमेश्वर के पलटा लेने के दिन का प्रचार करूँ; कि ब विलाप करनेवालों को शांति दूँ।

और सिय्योन के विलाप करनेवालों के सिर पर की राख दूर करके सुन्दर पगड़ी (माला या मुकुट) बाँध दूँ, कि उनका विलाप दूर करके हर्ष (सांत्वना और आनंद) का तेल लगाऊँ और उनकी उदासी हटाकर यश का ओढ़ना ओढ़ाऊँ…

 

यह सिद्दांत जो हम देखते हैं उससे स्पष्ट है, कि परमेश्वर संपूर्ण प्रतिस्थापन के लिए है। वह विशेष करके उन लोगों में रुचि रखता है जो ज़ख्मी हैं और अपने आन्नद को वापस पाना चाहते हैं।

आप किसी क्षति से दुःखी होंगे, परंतु आपको अपने शेष जीवनभर उस स्थिति में रहने की ज़रूरत नहीं है। परमेश्वर ने आपके विलाप को आन्नद में बदल देने की प्रतिज्ञा की है। आपको उस प्रतिज्ञा को थामे रहना चाहिए जबकि आप शोक की प्रक्रिया से गुज़र रहे हैं। ऐसा करना आपको भविष्य के लिए आशा प्रदान करेगा।

Facebook icon Twitter icon Instagram icon Pinterest icon Google+ icon YouTube icon LinkedIn icon Contact icon