आप एक मूलरूप हैं

वही जो उन सभों के हृदयों को गढ़ता। (भजन संहिता 33:15)

भजन संहिता 33:15 हमारे बारे में व्यक्तियों के रूप में बात करता है। क्योंकि परमेश्वर ने हमारे दिलों को व्यक्तिगत रूप से गढ़ा है, यही कारण है कि हमारी प्रार्थनाओं को स्वाभाविक रूप से हमारे दिलों से बाहर निकलने की जरूरत है और जिस तरह से उसने हमें बनाया है, उसके अनुरूप होनी चाहिए। जब हम परमेश्वर के साथ संचार की अपनी व्यक्तिगत शैलियों को विकसित करते हैं, तो हम उन लोगों से सीख सकते हैं जो हमसे अधिक अनुभवी हैं, लेकिन हमें उनकी नकल करने या उन्हें हमारे लिए मानक निर्धारित करने की अनुमति नहीं देने की आवश्यकता है। मैं कई लोगों के लिए एक उदाहरण बनने की उम्मीद करती हूं, लेकिन मैं चाहती हूं कि यीशु उनका मानक हो। किसी चीज को, जो कोई और कर रहा है, अपने स्वयं के प्रार्थना जीवन में शामिल करने में कुछ भी गलत नहीं है, यदि आप वास्तव में महसूस करते हैं कि परमेश्वर का आत्मा आपको ऐसा करने के लिए प्रेरित कर रहा है, लेकिन अपने आपको उन चीजों को करने के लिए मजबूर करना गलत है जो अन्य लोग करते हैं, यदि आप अपनी आत्मा में इसके बारे में सहज महसूस नहीं करते।

मैं आपको परमेश्वर से बात करने और उसकी आवाज सुनने की अपनी शैली विकसित करने के लिए प्रोत्साहित करना चाहती हूं। दूसरों के साथ रहने या उनकी प्रार्थना शैलियों की नकल करने की कोशिश न करें – और हर बार जब आप प्रार्थना करते हैं तब हर उस “प्रार्थना सिद्धांत” का उपयोग करने के लिए मजबूर महसूस न करें जो आपने कभी सीखा है। बस स्वाभाविक रहें, और याद रखें कि परमेश्वर ने आपको उसी तरह से बनाया है जैसे वह आपको बनाना चाहता है, और यह कि वह आप में आनंदित होता है, और वह अनोखे और व्यक्तिगत तरीके से आपसे बात करना चाहता है।

_______________

आज आप के लिए परमेश्वर का वचनः

परमेश्वर आप से और जिस तरह से आप बात करते, उससे प्यार करता है।

Facebook icon Twitter icon Instagram icon Pinterest icon Google+ icon YouTube icon LinkedIn icon Contact icon